News

 पुल बनने के बाद फरीदाबाद से ग्रेटर नोएडा का सफर सिर्फ 15 मिनट में 

  केंद्रीय सड़क, पोत एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि केंद्र सरकार का प्रयास है कि फरीदाबाद को उसका खोया हुआ गौरव जल्द मिले। नोएडा को फरीदाबाद से जोड़ने वाला मंझावली पुल इस कड़ी का पहला प्रयास है। आने वाले समय में फरीदाबाद देश के बड़े महानगरों में शामिल होगा। गड़करी ने यह बात सेक्टर-17 में भाजपा नेता विपुल गोयल के निवास पर आयोजित पत्रकार वार्ता में कही। इस दौरान उनके साथ केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर भी मौजूद थे। 

 
गडकरी ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार ने अपने ढाई माह के कार्यकाल में साबित कर दिया है कि देश में विकास कैसे होता है। जो पुल कई सालों से अपने निर्माण की बाट जोह रहा था, उसे भाजपा ने शुरू कराकर अपनी विकासपरक नीति का परिचय दिया है। उन्होंने कहा, आने वाले समय में ऐसी कई विकास परियोजनाएं शुरू की जानी हैं। गोयल ने कहा कि हरियाणा में होने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा पूर्ण बहुमत के साथ जीतेगी। इसके बाद केंद्र और हरियाणा की भाजपा सरकार मिलकर फरीदाबाद जिले सहित प्रदेश में विकास के नए आयाम स्थापित करेगी। 
 
इस दौरान केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने कहा कि केंद्र सरकार ने फरीदाबाद जिले के लिए कई विकास योजनाएं स्वीकृत की हैं। इनमें प्रमुख रूप से 6 सड़कों को राष्ट्रीय राजमार्ग एवं ईस्टर्न पेरी-फेरी प्रोजेक्ट शामिल हैं। इस प्रोजेक्ट के तहत जहां फरीदाबाद की सड़कों को राष्ट्रीय राजमार्ग के अनुरूप बनाया जाएगा, वहीं दूसरी योजना के तहत पलवल, फरीदाबाद, नोएडा, गाजियाबाद को कुंडली से जोड़कर विकास की नई तस्वीर पेश की जाएगी।
 
पुल बनने के बाद फरीदाबाद से ग्रेटर नोएडा का सफर सिर्फ 15 मिनट में
 
फरीदाबाद से ग्रेटर नोएडा जाना अब बेहद आसान व सुगम होगा। मंझावली गांव के समीप यमुना नदी पर 200 करोड़ रुपए की लागत से उच्च स्तर पुल व सड़क मार्ग विकसित किया जाएगा। इस परियोजना के सिरे चढ़ने के बाद ग्रेटर फरीदाबाद से ग्रेटर नोएडा मात्र 15 मिनट में पहुंचा जा सकेगा। 
 
कई मायने में महत्त्वपूर्ण है योजना
 
गांव मंझावली में इस परियोजना की शुक्रवार को केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आधारशिला रखी। इस उच्च स्तर पुल व सड़क विकास परियोजना से नहर पार क्षेत्र के 84 गांवों में नोएडा और ग्रेटर नोएडा से सीधी कनेक्टिविटी के आधार पर विकास की बयार बहेगी। साथ ही हरियाणा, दिल्ली तथा उत्तर प्रदेश के क्षेत्रों के लिए यह एक महत्वपूर्ण अन्तरराज्यीय कनेक्टिविटी की महत्वपूर्ण कड़ी भी साबित होगी।
 
योजना के पूर्ण होने से राजस्थान, फरीदाबाद, मेवात और गुड़गांव जिलों का यातायात दिल्ली में प्रवेश किए बिना ही आगरा, अलीगढ़ व लखनऊ आ-जा सकेगा। इस परियोजना का निर्माण खर्च केन्द्र सरकार द्वारा वहन किया जाएगा। भूमि अधिग्रहण का खर्च राज्य सरकार वहन करेगी। परियोजना की कुल लंबाई 23 किलो मीटर होगी। हरियाणा क्षेत्र में परियोजना की कुल लंबाई 20 किलोमीटर होगी।
 
उत्तरप्रदेश क्षेत्र में परियोजना की कुल लंबाई 2.4 किलोमीटर होगी। इस परियोजना में यमुना नदी पर बनने वाले पुल की लंबाई 600 मीटर होगी। 
 
क्या कहते हैं अधिकारी
 
हरियाणा लोक निर्माण विभाग के प्रधान सचिव संजीव कौशल तथा प्रमुख अभियंता महेश कुमार के अनुसार यमुना पर बनने वाले मंझावली पुल की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तीन माह में तैयार कर ली जाएगी। इस पुल का निर्माण डेढ़ साल में पूरा कराए जाने के आदेश मिले हैं।

Search Property

Quick Query

Send your query related to any property requirement. All fields are required.